Travels & Tourism

मालवा का प्रवेश दवार कहे जाने वाला हमारा गुना का प्राक़तिक सोंन्दर्य लोंगो को सम्मोहित करता है। साथ ही आस-पास के कई जिलों के श्रद्धालुओं की विषेष आस्था का केन्द्र है।

Hanuman Tekri -
Pulpit rock

गुना जिला मुख्यालय से करीब 5 किलोमीटर दूर स्थित है प्रसिद्ध सिद्ध स्थल श्री हनुमान टेकरी मंदिर। ऊंची पहाडि़यों पर स्थित इस मंदिर में अति प्राचीन दक्षिण मुखी हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित है। टेकरी सरकार का यह स्थान सातवीं शताब्दी पूर्व का है और साधू संतों की तपो भूमि का केन्द्र रहा है।

tekri

Bees Bhuja Devi Temple -
Pulpit rock

मंदिर - बीस भुजा देवी जिला मुख्यालय से 8 किमी दूर स्थित है माँ बीस भुजा देवी का मंदिर। ऊंची पहाड़ी पर बीस भुजा देवी का प्यारा दरबार सजा है। पहले माँ बीस भुजा देवी एक छोटे से मंदिर में स्थापित थी। धीरे-धीरे जीर्णोद्वार करते हुए भव्य मंदिर का निर्माण कराया गया। मंदिर का चमत्कार यह है कि - माँ बीस भुजा देवी की बीस भुजा है। जिन्हे कोई नहीं गिन पाता है। जिस भक्त पर माँ की कृपा होती है, उसी को बीसों भुजा गिनने का सौभाग्य प्राप्त होता है।


Bajranggarh -
Pulpit rock

वजरंगगढ किला परिसर के एतिहासिक तथ्यों के संबंध में किलापरिसर विकासयन्या स के सदस्यों ने बताया कि यह किला12 वी सदी में रागवंशों द्वारा काले पत्थ रों से निर्माणकरायागया था । इसकी दीवारेां पर आकर्षक मूर्तियों उकेरी गर्इ थी इनके अवशेष अभी भी देखे जा सकते हैं यही बहादुरी की भी मिसाल देखी जा सकती हैा किले की सुरक्षा के लिए विभिन्न आकारोंकी तोपें तैनात थी उन्होखने बताया कि फ्रासीसी जनरल जॉन बेप्टिस्टे ने दुर्ग को नेस्ता नाबूत करने के लिए चढाई की थी किला परिसर में स्थ्ति तोरण पर लिखे बीजक के अनुसार १७७५ में तोपों का निर्माण अष्टढ धातूसे कराया गया था


Gopi Sagar Sagar Dam -
Pulpit rock

tekri


tekri